कभी हमें एक दूसरे को कम नहीं समझना चाहिए शेखचिल्ली की कहानी Sheikh Chilli story we should never underestimate each other-sheikh chilli story in hindi

sheikh chilli story in hindi

Introduction-sheikh chilli story in hindi

Story of Sheikh Chilli  शेखचिल्ली के बारे में आपने जरूर सुना होगा या बचपन में इसके बारे में पढ़ा भी होगा I शेखचिल्ली अपने मूर्खता की बातें के कारणों वह प्रसिद्ध था I और उसकी बातें लोगों को बहुत हंसाती थी और उसके द्वारा बहुत कुछ हमें सीखने को भी मिलता है I

बहुत पुराने समय की बात है एक बार एक राजा ने शेखचिल्ली से खुश होकर अपने यहां उसे नौकर के रूप में रख लिया दिन बीते गए I शेखचिल्ली इमानदारी से अपना काम करता रहा 1 दिन की बात है राजा ने शिकार की योजना बनाई I और वह शिकार खेलने के लिए जंगल की ओर जा जाने की तैयारी कर कर रहे थे I

राजा को शिकार में जाते हुए देख शेखचिल्ली ने कहा महाराज महाराज मैं भी आपके साथ आना चाहता हूं I शेखचिल्ली की ए बात सुनकर सारे सैनिक जोर जोर से हंसने लगे और राजा भी हंसने लगा I

राजा ने हंसते हुए उसे प्यार से समझाया कि तुम वहां नहीं जा सकते हो तुमने जीवन में कभी I एक चूहे का शिकार नहीं किया तो तुम जंगल में किसका शिकार करोगे और वहां जाकर भी तुम क्या करोगे I

राजा और सैनिकों की बात सुनकर शेखचिल्ली ने बोला आप मुझे अपना काबिलियत दिखाने का बस एक मौका दीजिए I

राजा ने उसकी ज़िद देख कर हामी भर दी और शेखचिल्ली के हाथ में भी एक बंदूक थमा दी I और सभी एक साथ मिलकर घने जंगल की ओर बढ़ने लगे कुछ दूर पहुंचकर I सब कोई अलग अलग जगह में छुप कर के शेर का इंतजार करने लगे राजा ने भी शेखचिल्ली को अपने साथ खड़े रहने के लिए आज्ञा दी I

शेर को फंसाने के लिए उन्होंने दूर एक पेड़ के पास एक छोटी सी बकरी के बच्चे को बांध रखा था I लेकिन 3 घंटे हो गए हैं लेकिन कोई शेर अभी तक नहीं आया इतने में शेखचिल्ली परेशान हो गया I और वह चिल्लाते हुए पूछा शेर अभी तक आया क्यों नहीं कहां चला गया I

राजा के पास खड़े एक सैनिक ने कहा तुम बिल्कुल शांत रहो नहीं तो सारा काम बिगड़ जाएगा I

जब सभी शेर का इंतजार कर रहे थे तो इधर शेखचिल्ली मन ही मन सपने देखने लगा I वह मन ही मन सोचने लगा कि वह 2-3 शेर का तो ऐसे ही शिकार कर लेगा I एक शेर को मारने के लिए कितने सारे लोग आए हैं I और इतनी देर हो गए लेकिन अब तक शेर आया नहीं

और कितना इंतजार करना पड़ेगा शेखचिल्ली सोचने लगा I

फिर शेखचिल्ली सोचने लगा कि मेरा बस चले तो मैं बंदूक लेकर सीधा ही शेर को खोजने अकेले निकल जाऊं I और उसे ढूंढ कर उसका शिकार कर लूं लेकिन शेर तो बहुत तेज होते हैं I यदि वह अचानक मेरी और हमला कर दे तो ? फिर शेखचिल्ली सोचने लगा I मैं भी शेर से कम नहीं हूं जैसे ही वह मेरी और हमला करने आएगा मैं अपने बंदूक उठा कर उसे गोली मार दूंगा I

वह अपने मन के सपनों में ऐसे खोया हुआ था I और वह विचारों में ही शेर का शिकार करने लगा I कि जैसे शेर मेरे तरफ हमला करेगा मैं उसे गोली मार दूंगा और सपने सपने में ही उसने अचानक सच में बंदूक चला दिया I

और जोर से बंदूक चलाने की आवाज आई आवाज सुनते ही शेखचिल्ली चिल्ला उठा शेर को मैं मार दूंगा I

जब शेखचिल्ली चिल्लाया और बंदूक की आवाज भी तो सब लोग बाहर निकल गए I और देखें बकरी का बच्चा जस का तस पेड़ पर बंधा हुआ है और कुछ दूर पर एक शेर सच में मरा हुआ है I

राजा से लेकर सैनिकों को विश्वास नहीं हो रहा था कि शेखचिल्ली ने एक शेर का शिकार कर दिया I और सब ने शेखचिल्ली को बधाई दी और शेखचिल्ली को सबके बधाई से बहुत खुशी मिली I लेकिन शेखचिल्ली भी कुछ समझ में नहीं आ रहा था कि उसने शेर को मारा कैसे I

यह ना शेखचिल्ली को मालूम और ना राजा और ना सैनिकों को लेकिन आपको और मुझे मालूम है I कि उसने सपने सपने में गोली चला दी और गोली अनजाने में ही लेकिन निशाने पर जा लगा I

कहानी के द्वारा महत्वपूर्ण सीख

हमें कभी भी किसी को तुच्छ या कम नहीं आंकना चाहिए क्या पता जाने अनजाने वह व्यक्ति हमारे बहुत काम आ जाए I कभी-कभी ऐसा भी होता है I जिससे हम बिल्कुल उम्मीद नहीं करते वही इंसान हमारे बहुत काम आता है इसलिए सभी से प्रेम करें I

फिर मिलते हैं ऐसे ही मजेदार कहानियों को लेकर के आप हमें जरूर बताएं I यह कहानी आपको कैसी लगी आगे भी हम लोग आप लोग के लिए ऐसे ही कहानियां लाते रहेंगे I तब तक खुशियां बांटते रहें और मुस्कुराते रहें I

Leave a Comment